सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Fastag kya hai aur Fastag ke kya fayde hai


 15 फरवरी 2021 की मध्य रात्रि से सभी चारपहिया गाड़ियों के लिए Fastag अनिवार्य कर दिया गया है। यदि आपने अपनी गाड़ी में अभी तक Fastag नहीं लगवाया  है और बिना Fastag के किसी टोलप्लाज़ा के गुजरते है, तो अब आपको अपनी श्रेणी के निर्धारित शुल्क से दुगुने शुल्क का भुगतान करना पड़ेगा। 

टोलप्लाज़ा पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से शुल्क भुगतान के लिए 2014 में Fastag की व्यवस्था की गई थी। Fastag की मदद से किसी भी टोलप्लाज़ा पर इलेक्ट्रॉनिक तरीके से निर्धरित शुल्क का भुगतान स्वतः ही हो जाता है, और इसके लिए वाहन को रोककर पर्ची कटाने की जरूरत नहीं पड़ती है, जिस कारण टोलप्लाज़ा पर लगने वाली लम्बी जाम के निजात मिलती है तथा समय की भी बचत होती है।  और प्रदूषण भी कम होता है।  


Fastag क्या है 

fastag kya hai, fastag kaha se khareede
Fastag


Fastag भारत में एक  Electronic Toll Collection System {इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रह प्रणाली} है, जिसे भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्रधिकरण {National highway authority of india NHAI] के द्वारा संचालित किया जाता है। 

Fastag एक तरह का स्टीकर होता है जिसे गाड़ी के सामने वाले शीशे पर बायीं तरफ लगाया जाता है, इसमें रेडियो फ्रेक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन {RFID} का इस्तेमाल किया जाता है। जब आपकी गाड़ी  टॉलप्लजा के निकट पहुँचती है तो टोलप्लाज़ा पर लगा हुआ Tagreader आपके गाड़ी के Fastag के सम्पर्क में आता है और आपके Fastag account से स्वतः ही निर्धारित शुल्क का भुगतान हो जाता है, और इस तरह टोलप्लाज़ा पर बिना रुके टोल का भुगतान बहुत ही आसानी से तथा कम समय में हो जाता है। तथा हम टोलप्लाज़ा पर लगने वाले लम्बे जाम से भी बच जाते हैं। 


Fastag कैसे काम करता है 

Fastag kya hai
Fastag kya hai


 Fastag एक तरह का स्टीकर होता है जिसे गाड़ी के सामने वाले शीशे पर बायीं तरफ लगाया जाता है, इसमें रेडियो फ्रेक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन {RFID} का इस्तेमाल किया जाता है। जब आपकी गाड़ी  टॉलप्लजा के निकट पहुँचती है तो टोलप्लाज़ा पर लगा हुआ Tagreader आपके गाड़ी के Fastag के सम्पर्क में आता है और आपके Fastag account से स्वतः ही निर्धारित शुल्क का भुगतान हो जाता है, और इस तरह टोलप्लाज़ा पर बिना रुके टोल का भुगतान बहुत ही आसानी से तथा कम समय में हो जाता है। तथा हम टोलप्लाज़ा पर लगने वाले लम्बे जाम से भी बच जाते हैं। 


Fastag के फायदे 


  • Fastag के द्वारा डिजिटल भुगतान को बढ़ावा मिलेगा। इसके माध्यम से लोगो cash लेकर नहीं जाना पड़ेगा। 
  • टोलप्लाज़ा पर लगने वाली गाड़ियों की भीड़ काम हो जाएगी, 
  • समय की भी बचत होगी 
  • ईंधन की खपत भी कम हो जाएगी तथा प्रदूषण भी कुछ  हद तक कम हो जाएगा। 
  • डिजिटल भुगतान होने के कारण धांधली की समस्या भी कम हो जाएगी। 

Fastag के लिए आवश्यक Documents 

  • Vehicle Registration Certificate
  • Passport size photo of the vehicle owner
  • KYC documents for ID and Adress proof- Driving Licence, PAN Card or Passport


Fastag कहाँ से खरीदे

 
 Fastag देश के लगभग सभी बड़े सरकारी तथा प्राइवेट बैंक से खरीद सकते है, आप इसके लिए ऑफलाइन तथा ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। आप फास्टैग टोलप्लाज से सभी खरीद सकते है इसके लिए टोलप्लाज़ा पर फास्टैग बूथ बना होता है वहाँ से आप जरुरी डाक्यूमेंट्स सबमिट  फास्टैग खरीद सकते हैं।   


  1. Airtel Payments Bank
  2. Allahabad Bank
  3. AU Small Finance Bank
  4. Axis Bank Ltd
  5. Bank of Baroda 
  6. Bank of Maharashtra
  7. Canara Bank
  8. Central Bank of India
  9. City Union Bank Ltd
  10. Equitas Small Finance Bank
  11. Federal Bank
  12. Fino Payments Bank
  13. HDFC Bank
  14. ICICI Bank
  15. IDBI Bank
  16. IDFC First Bank
  17. Indusind Bank
  18. Karur Vysya Bank
  19. Yes Bank
  20. Union Bank of India
  21. Syndicate Bank
  22. State Bank of India
  23. South Indian Bank
  24. Punjab National Bank
  25. Paytm Bank
  26. Kotak Mahindra Bank



Fastag 
को रिचार्ज करने के लिए अपने मोबाइल पर My Fastag app डाउनलोड कर फास्टैग को लिंक करके या फिर UPI या बैंक अकाउंट के जरिये आप Fastag को रिचार्ज कर सकते है। 
My Fastag app से आपको अपने टोल को राशि और उसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो जाएगी।  इस app में आपको प्रीपेड वॉलेट सुविधा भी मिलेगी।


निष्कर्ष  

दोस्तों Fastag क्या है ? Fastag कैसे काम करता  है? Fastag डॉक्युमेंट् क्या है? Fastag के फायदे क्या है तथा Fastag  कहाँ से खरीदे, के बारे में जानकारी प्राप्त हो गयी है, यदि आपको आर्टिकल पसंद आया तो कमेंट करके हमें बताए और हाँ शेयर जरूर करें। 

धन्यवाद 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Blogger me Free blog kaise banaye, how to make a free blog in hindi

Blogger में free Blog कैसे बनाए  Blog बनाना बहुत ही easy है,  Blog  बनाने  में कोई Rocket  Science नहीं है ,कोई  भी व्यक्ति अपना खुद का  Blog  बना सकता है तथा उससे पैसे कमा सकता है।  एक Sucessfull ब्लॉगर बनने के लिए आपकी Content Writing Skill अच्छी होनी चाहिए। अगर आपको लगता है की आप अपने पसंदीदा टॉपिक पर बिना बोर हुए अच्छा लेख लिख सकते हैं, तब आप भविष्य में अपने आप को एक Sucessfull ब्लॉगर के रूप में स्थापित कर सकते हैं।  वैसे तो  Blog  बनाने के लिए बहुत से Platforms उपलब्ध हैं,  पर केवल  दो ही प्लेटफार्म ऐसे हैं जिसपर ज्यादातर  लोग अपना  Blog  बनाते हैं।  1) Blogger   2) Wordpress   BLOG KAISE BANAYE Blogger तथा Wordpress   दो ऐसे Platform हैं  जिसपर ज्यादा से ज्यादा लोग अपना Blog बनाते हैं और Blogging करते हैं।  इस आर्टिकल में  हम Blogger Platform पर 2020 में Free में Blog कैसे बनाये  (Step By Step) सीखेंगे।  2020 में Free में Blog कैसे बनाये, CONTENTS: 1)  2020 में Free में Blog कैसे बनाये  (Blogger Plateform पर)    a)   Blog के लिए सही Niche / Topic का चुनाव करना।      b) Blog

Pin Code Kya Hota Hai, Aur Iska Full form Kya Hai Hindi me

पिन कोड क्या होता है  दोस्तों आप सभी को अपने क्षेत्र का Pin Code जरूर मालूम होगा, आप सभी को Pin Code की जरूरत कभी न कभी जरूर पड़ी होगी, चाहे आप ऑनलाइन कोई सामान purchase करते हो तब या फिर आपने कभी कोई Form Fill किया हो तब, Address में आपको  Pin Code  अवश्य डालना होता है। क्या आप जानते है कि Pin Code क्या होता है? और  Pin Code  Fullform क्या है? दोस्तों आज के इस article में हम जानेंगे कि  Pin Code  क्या है और  Pin Code  Fullform क्या है।  Pin Code  शब्द का प्रयोग विशेषतः दो क्षेत्रों किया जाता है, डाक  विभाग में  विषेशतः प्रयोग किया जाता है।   DIGITALLY  प्रयोग किया जाता है, जैसे ATM कार्ड, MOBILE  PHONE, INTERNET BANKING.   1 .  डाक  विभाग के द्वारा प्रयोग किए जाने वाले   Pin Code   का FULL  FORM.     P - POSTAL               पोस्टल  I  - इंडेक्स                    इंडेक्स  N - NUMBER            नंबर  Pin Code  ka full form PIN का FULL FORM   Hindi में, डॉक सूचकांक अंक(नंबर) है।   English में, POSTAL INDEX NUMBER पोस्टल इंडेक्स नंबर POSTAL INDEX NUMBER क्या होत

Domain name kya hai, subdomain kya hai.

DOMAIN NAME क्या है ? DOMAIN NAME कितने प्रकार का होता है ? SUBDOMAIN क्या है ? यदि आपने भी अपना Blog या Website बनाने के बारे सोचा है तो आपको भी Domain Name के बारे में पता होगा कि किसी भी Blog या Website बनाने के लिए Domain Name की आवशकता पड़ती है।  आज के इस Article हम जानेंगे की Domain Name क्या है, Domain Name कितने प्रकार का होता है, Subdomain क्या है, और Domain कहाँ से ख़रीदे।   Domain Name kya hai DOMAIN NAME क्या है? Domain Name के माध्यम से हम किसी भी वेबसाइट तक पहुंच सकते है। Domain Name किसी भी वेबसाइट का  Internet पर पता (Address) तथा नाम होता है। जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति की पहचान उसके नाम से होती है, उसी प्रकार प्रत्येक Website का भी नाम होता है, उसी को  Domain Name कहा जाता है।  Domain Name की जरुरत क्यों पड़ी।  प्रत्येक Website का एक IP Addrees होता है और प्रत्येक Website IP Address से जुडी होती हैं।  IP Address  संख्याओं का समूह होता है। प्रत्येक वेबसाइट का IP Address  अलग -अलग होता है, अब यदि किसी को अपनी पसंद की Website Search करना  हो तो इन numbers को याद